मैथिली साहित्य महासभाक एहि ब्लॉग पर अपनेक स्वागत अछि। मैसाम मैथिली साहित्यक संवर्धन ओ संरक्षण लेल संकल्पित अछि। अपन कोनो तरहक रचना / सुझाव maithilisahityamahasabha@gmail.com पर पठा सकैत छी। एहि ब्लॉग के subscribe करब नहि बिसरब, जाहि सँ समस्त आलेख पोस्ट होएबाक जानकारी अपने लोकनि के भेटैत रहत। संपर्क सूत्र : 8010218022, 9810099451

Wednesday, 15 April 2020

दीप उत्सव सोहर गीत ।। रचना - कविता झा

दीप उत्सव सोहर गीत


कोन असुर जग पसर ल,
कहमा स आयल  रे
ललना रे ऐहन जतन सब ,
करिताहू असुर भग बितहूं  रे
    को रो ना असुर जग पसरल,
    चायना स आयल रे
   ललना रे दीप जराए हम ,
   रा खब कोरोणा भगा यब रे
लाब ह दीप सलाई की ,
सब मिली जराओल रे,
ललना रे एक जुट भय,
दीप लेसल की,
मोदी मन राखल रे
      
कविता झा

Sunday, 12 April 2020

मोनक प्रश्न

की कवियो सभक धर्म होइ छै ?
कि सभ कवि बेधर्मी होइ छै ?
हाँ हाँ ई जुनि कहि देब, कविक धर्म
हमरा कविक धर्म नहि
हमरा बुझैके अछि कविके घर्म
धर्म ! ओ धर्म
अहाँक पुरखाक घर्म
जे अहाँके वैष्णव बनेलक
जे अहाँके टीक रखब सिखेलक
जे अहाँके माय भगवतीक सेबक बनेलक
आ जे केकरो गायभक्क्षी बनेलक
ओ धर्म

किएक
अनायास ई प्रश्न किएक ?
आइ देख रहल छी
जाहि कविके दाढ़ी नै भेलैए
ओहो गड़ीया रहल अछि
धर्मके टीक आ चाननके
गड़ीया रहल अछि
धर्मक गप्प करै बलाके
गड़ीया रहल अछि
धर्मक स्थानके
आ धर्म देवीके

कमोबेस मैथिलीक कविक सभक
इहे चालि अछि
हाँ ! कियों चिन्हार
तँ कियों अनचिन्हार अछि
तें पुछए परल ई प्रश्न
की कवियो सभक धर्म होइ छै ?
कि सभ कवि बेधर्मी होइ छै ?
यदि बेधर्मी भेनाई अनिवार्य होय कविके
तँ हमहूँ अपन जनउ तोरि ली
टीक काटि
गड़ीयाबै लागू झा मिसरके
खए लागू पाया आ लेग
कवि बनी की नै
मन बुझए अबे की नै
मुदा अकादमी पुरस्कार
भेटत हमरे
सभ परहत हमरे
कर्मे नहि तँ कुकर्मे
सभ परहत हमरे ।
        *****
        जगदानन्द झा "मनु"
        मो० 9212 46 1006
        गाम पोस्ट- हरिपुर डीहटोल, मधुबनी

Tuesday, 25 September 2018

रमण दोहावली ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                         || रमण दोहावली ||
                                        


    1. नाहि परखिए  कोऊ घट , मुख करिए अमृत पान ।
       "रमण" कनक घट हो सुरा , जीवन मृत्यु समान  ।।

    2. धन  बल  तन बल रूप बल , इच्छा  मन में नाही ।
        "रमण" विधाता ज्ञान एक  ,  भर देना घट माहि ।।

    3. घट - घट  महिमा राम की , हर घट  रामहि वास ।
        "रमण" तो साधे एक घट , है घट माहि विश्वास ।।

    4. सागर  गागर  दोउ  नहि  ,  ऊँच  नीच  की  बात ।
        एक  भरे  पनिहारीणी , "रमण"  एकै  वरसात ।।

    5. मृत्यु  जनम  जंजीर  है ,  कही  सुबह  तो  शाम ।
        "रमण" भ्रम पथ छारि के , जपिहो राधे श्याम ।।

    6. प्रभु से कछु नहि माँगिए  ,  मानिए उसकी बात ।
        "रमण"  तरसता  बुन्द  को , वो  देते  वरसात ।।

    7. जो सहत वही लहत है  ,  लहत वही जग जीत ।
       बैर - बैर को छारि के , "रमण" राख चित्त प्रीत ।।

    8. जो लिखना था लिख दिया , लिखने से किया होय ।
        रसना व्यंजन नहि चखे , "रमण" स्वाद को खोय ।।

                                 रचनाकार
  रेवती रमण झा "रमण"
mob- 9997313751
   

Monday, 24 September 2018

रमण दोहावली । । रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                         || रमण दोहावली ||
                                        


   1. "रमण" धरम की झोपड़ी , पाप की तीली एक ।
         चले  मारुत उन्चास जँह , जारे नगर  अनेक ।।

   2. तिरिया  हो  व्यभिचारिणी , सन्तति  हो  नासूर ।
       कहे  "रमण"  जंजाल को , छोर  कही जा दूर ।।

   3. पति   परमेश्वर   छारि   के , नामर्दा   केर   साथ ।
    "रमण" केतनहुँ जतन कर , कछु नहिआबै हाथ ।।

   4. शक्त्ति स्वरूपा नारि सती , कुल्टा नरक का द्वार ।
     "रमण"  धरण  फूले - फले , अधमी कुल संहार ।।

   5. नख शिख दंता नारि गुण  ,  सोहे जब तक ठाम ।
     "रमण" विंलग पथ होय के , एक न सोहे कुठाम ।।

   6. बेटी  हो  तो  ,  हो  भली , भली  न हो मर जाय ।
      "रमण"  मानेमर्याद  से  ,  दोनों  कुल  तरजाय ।।

   7. आई  आँधी  जोर  की  ,  चली  सुबह  से  शाम ।
       पत्ता - पत्ता  रे  झड़  गया , लटका डाली आम ।।

   8. पाहन   की  भई  पैड़ी  ,  पाहन   का  भगवान ।
       एक पैरहि एक सिर नवे  ,  दोनों सिला समान ।।

                                   रचनाकार
                         रेवती रमण झा "रमण"
                        mob - 9997313751